Wednesday, July 17, 2024
spot_img
Homeराजनीतिकंगना के 'छोटे पप्पू' पर विक्रमादित्य का जवाब: भगवान राम सदबुद्धि दें..

कंगना के ‘छोटे पप्पू’ पर विक्रमादित्य का जवाब: भगवान राम सदबुद्धि दें..

मंडी। हिमाचल की सबसे हॉट सीट मानी जा रही मंडी संसदीय सीट पर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। आज कंगना ने मनाली में कांग्रेस के संभावित प्रत्याशी विक्रमादित्य सिंह पर तीखी टिप्पणी की थी। कंगना ने खुले मंच से विक्रमादित्य सिंह का नाम लिए बिना कहा कि जैसे दिल्ली में एक बड़ा पप्पू बैठा हुआ है। ठीक उसी तरह हिमाचल में भी एक छोटा पप्पू मौजूद है। कंगना के इस बयान पर विक्रमादित्य सिंह ने पलटवार किया है।

कंगना को भगवान राम सदबुद्धि दें

कंगना की इस बात पर विक्रमादित्य सिंह ने भी अब जवाब दिया है। विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि कंगना रनौत जिस भाषा का प्रयोग कर रही है वह हिमाचल की संस्कृति नहीं है। आज से पहले कभी देवभूमि में इस तरह की शब्दावली का प्रयोग नहीं हुआ है। विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि भगवान राम उन्हें जल्द सदबुद्धि दें।

कंगना को असल मुद्दों पर करनी चाहिए बात

विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि वह क्या खाती है, और मुंबई में क्या पीती हैं। इससे हिमाचल की जनता को कुछ लेना देना नहीं है और ना ही यह सभी हिमाचल के मुद्दे हैं। पीब्ल्यूडी मंत्री ने कहा कि कंगना रनौत को खाने पीने के बजाय हिमाचल के असल मुद्दों पर बात करनी चाहिए। विक्रमादित्य सिंह ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी शेयर किया है।

आपदा के समय नहीं ली अपने लोगों की सुध

वीडियो को शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि मनाली में इस साल प्रदेश के इतिहास की सबसे बड़ी आपदा आई थी। वहीं मनाली में अपना घर बताने वाली कंगना कांग्रेस को कोसने के बजाय उस पर बात करती तो बेहतर होता। कंगना ने ना तो आपदा के समय अपने लोगों की सुध ली और ना ही उनकी कोई मदद की।

इस तरह की भाषा के लिए कंगना को नमन

विक्रमादित्य सिंह ने कंगना से मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए उनके योगदान और विजन के बारे में पूछा है और कहा कि वह जनता के सामने अपना योगदान और विजन रखें।

यह भी पढ़ें : हिमाचल में छोटा पप्पू, दिल्ली में बड़ा: कंगना ने विक्रमादित्य को जमकर कोसा

विक्रमादित्य सिंह ने एक बार कंगना को अपनी बड़ी बहन बताया और कहा कि इस तरह की भाषा का प्रयोग करने के लिए उन्हें नमन है। कंगना क्षेत्र के मुद्दों और समस्याओं पर बात करे, ताकि कांग्रेस सरकार उन समस्याओं को सुलझाने का प्रयास करे।

पेज पर वापस जाने के लिए यहां क्लिक करें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments