Wednesday, July 17, 2024
spot_img
Homeराजनीतिहिमाचल में भाजपा को बड़ा झटका, नगर परिषद का अध्यक्ष बन गया...

हिमाचल में भाजपा को बड़ा झटका, नगर परिषद का अध्यक्ष बन गया कांग्रेसी

हमीरपुर। हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां काफी अधिक बढ़ गई है। लोकसभा चुनाव के ऐलानों से पूर्व ही शुरू हुआ दल बदल का सिलसिला अब तक नहीं थमा है। पहले जहां कांग्रेस के 6 विधायकों ने राज्यसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी को वोट देने के बाद अपनी पार्टी से किनारा कर लिया और भाजपा का दामन थाम लिया। वहींए अब दल बदल की यह आंच भाजपा के खेमे को भी नहीं बख्शती हुई नजर आ रही है।

मनोज मिन्हास ने पत्नी, पार्षद के साथ ज्वाइन की कांग्रेस

ताजा खबर हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले से सामने आई है, जहां आज गुरुवार को हमीरपुर नगर परिषद के अध्यक्ष मनोज मिन्हास ने अपनी पत्नी निशा मिन्हास के साथ भाजपा का साथ छोड़ कांग्रेस का दामन थाम लिया। इसके साथ ही वह अपने साथ वार्ड नंबर 2 से पार्षद राजकुमार को भी कांग्रेस पार्टी में लेकर गए हैं।

बीडीसी सदस्य मनजीत कुमार ने भी छोड़ी भाजपा

मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू और केंद्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर का गृह जिला होने के कारण हमीरपुर में आए सियासी भूचाल पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं।

चुनाव से ठीक पहले नगर परिषद अध्यक्ष का कांग्रेस में शामिल हो जाना भाजपा के लिए बड़ा झटका बताया जा रहा है। यही नहीं नादौन ब्लॉक के जलाड़ी-चिलियां वार्ड नंबर-8 से भाजपा समर्थित बीडीसी सदस्य मनजीत कुमार भी गुरुवार को कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए।

इस वजह से छोड़ा कमल का साथ

कांग्रेस में शामिल होने के बाद हमीरपुर नगर परिषद के अध्यक्ष मनोज मिन्हास ने बताया कि कांग्रेस के बागी विधायकों को भाजपा द्वारा टिकट दिए जाने से वह आहत हुए हैं। इस कारण से उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की है।

सीएम सुक्खू पर जताया विश्वास

इसके अलावा उन्होंने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू के 15 महीने के कार्यकाल को सराहनीय बताते हुए कहा कि वह कांग्रेस में शामिल होकर सरकार के साथ मिलकर जनहित के काम को आगे बढ़ाएंगे। मनोज मिन्हास का कहना है कि कांग्रेस के बिकाऊ विधायक प्रदेश की जनता का नहीं, बल्कि अपना खुद का विकास चाहते थे, इसी कारण से उन्होंने यह सारा खेल रचाया।

बागियों ने जनता पर डाला उपचुनाव का बोझ

मनोज मिन्हास से कहा कि जनता ने इन विधायकों को 5 वर्षों के लिए चुनकर भेजा थाए मगर वह मात्र 14 महीना में ही जनता से धोखा कर गए। अब प्रदेश में इन सभी 6 सीटों पर उपचुनाव करवाया जा रहा है, जिससे कि करोड़ों रुपए का अतिरिक्त बोझ प्रदेश की जनता पर पड़ेगा, जो कि कहीं से भी ठीक नहीं है।

यह भी पढ़ें : हिमाचल में छोटा पप्पू, दिल्ली में बड़ा: कंगना ने विक्रमादित्य को जमकर कोसा

सीएम सुक्खू ने ज्वाइन करवाई कांग्रेस

आपको बता दें की कुछ दिनों पहले मनोज मिन्हास ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट कर भाजपा को आड़े हाथों लिया था, जिसके बाद से ही उनके पार्टी बदलने के आसार जताए जाने लगे थे। इसके बाद आज मुख्यमंत्री ने सेरा रेस्ट हाउस में मनोज मिन्हास उनकी पत्नी निशा मिन्हास और पार्षद राजकुमार को कांग्रेस का पटका पहनाकर पार्टी में शामिल करवा लिया।

पेज पर वापस जाने के लिए यहां क्लिक करें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments